Ambedkar

Dr. Ambedkar / डा० आम्बेडकर

Dr. Ambedkar Quotes / डा० आम्बेडकर अनमोल विचार

एक महान आदमी एक प्रतिष्ठित आदमी से इस तरह से अलग होता है कि वह समाज का नौकर बनने को तैयार रहता है .

लोग और उनके धर्म सामाजिक मानकों द्वारा; सामजिक नैतिकता के आधार पर परखे जाने चाहिए .
अगर धर्म को लोगो के भले के लिए आवशयक मान लिया जायेगा तो और किसी मानक का मतलब नहीं होगा .

बुद्धि का विकास मानव के अस्तित्व का अंतिम लक्ष्य होना चाहिए .

हर व्यक्ति जो मिल के सिद्धांत कि एक देश दूसरे देश पर शाशन नहीं कर सकता को दोहराता है
उसे ये भी स्वीकार करना चाहिए कि एक वर्ग दूसरे वर्ग पर शाशन नहीं कर सकता .

एक सफल क्रांति के लिए सिर्फ असंतोष का होना पर्याप्त नहीं है.
जिसकी आवश्यकता है वो है न्याय एवं राजनीतिक और सामाजिक अधिकारों में गहरी आस्था.

We are Indians, firstly and lastly.

The relationship between husband and wife should be one of closest friends.

Life should be great rather than long.

Cultivation of mind should be the ultimate aim of human existence.

"I like the religion that teaches liberty, equality and fraternity. इतिहास बताता है कि जहाँ नैतिकता और अर्थशाश्त्र के बीच संघर्ष होता है वहां जीत हमेशा अर्थशाश्त्र की होती है .
निहित स्वार्थों को तब तक स्वेच्छा से नहीं छोड़ा गया है जब तक कि मजबूर करने के लिए पर्याप्त बल ना लगाया गया हो .

मैं ऐसे धर्म को मानता हूँ जो स्वतंत्रता , समानता , और भाई -चारा सीखाये .

मैं किसी समुदाय की प्रगति महिलाओं ने जो प्रगति हांसिल की है उससे मापता हूँ .

हिंदू धर्म में, विवेक, कारण, और स्वतंत्र सोच के विकास के लिए कोई गुंजाइश नहीं है.

आज भारतीय दो अलग -अलग विचारधाराओं द्वारा शाशित हो रहे हैं .
उनके राजनीतिक आदर्श जो संविधान के प्रस्तावना में इंगित हैं
वो स्वतंत्रता , समानता , और भाई -चारे स्थापित करते हैं .
और उनके धर्म में समाहित सामाजिक आदर्श इससे इनकार करते हैं .

Indifferentism is the worst kind of disease that can affect people.

A safe army is better than a safe border.

Equality may be a fiction but nonetheless one must accept it as a governing principle

A great man is different from an eminent one in that he is ready to be the servant of the society.

Religion and slavery are incompatible. क़ानून और व्यवस्था राजनीतिक शरीर की दवा है और जब राजनीतिक शरीर बीमार पड़े तो दवा ज़रूर दी जानी चाहिए .

जीवन लम्बा होने की बजाये महान होना चाहिए .

मनुष्य नश्वर है . उसी तरह विचार भी नश्वर हैं . एक विचार को प्रचार -प्रसार की ज़रुरत होती है ,
जैसे कि एक पौधे को पानी की . नहीं तो दोनों मुरझा कर मर जाते हैं .

राजनीतिक अत्याचार सामाजिक अत्याचार की तुलना में कुछ भी नहीं है
और एक सुधारक जो समाज को खारिज कर देता है वो सरकार को ख़ारिज कर देने वाले राजनीतिज्ञ से कहीं अधिक साहसी हैं .

जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता नहीं हांसिल कर लेते , क़ानून आपको जो भी स्वतंत्रता देता है वो आपके किसी काम की नहीं .

Religion and slavery are incompatible.

So long as you do not achieve social liberty, whatever freedom is provided by the law is of no avail to you.

I measure the progress of a community by the degree of progress which women have achieved

I solemnly assure you that I will not die as a Hindu.

Generally speaking, the Smritikars never care to explain the why and the how of their dogmas पति- पत्नी के बीच का सम्बन्ध घनिष्ट मित्रों के सम्बन्ध के सामान होना चाहिए .

यदि हम एक संयुक्त एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं तो सभी धर्मों के शाश्त्रों की संप्रभुता का अंत होना चाहिए .

सागर में मिलकर अपनी पहचान खो देने वाली पानी की एक बूँद के विपरीत ,
इंसान जिस समाज में रहता है वहां अपनी पहचान नहीं खोता .
इंसान का जीवन स्वतंत्र है . वो सिर्फ समाज के विकास के लिए नहीं पैदा हुआ है ,
बल्कि स्वयं के विकास के लिए पैदा हुआ है .

हम भारतीय हैं , पहले और अंत में .

हमारे पास यह स्वतंत्रता किस लिए है ? हमारे पास ये स्वत्नत्रता इसलिए है
ताकि हम अपने सामाजिक व्यवस्था , जो असमानता , भेद-भाव और अन्य चीजों से भरी है ,
जो हमारे मौलिक अधिकारों से टकराव में है को सुधार सकें. मेरे नाम की जय-जयकार करने से अच्‍छा है, मेरे बताए हुए रास्‍ते पर चलें।"

"रात रातभर मैं इसलिये जागता हूँ क्‍योंकि मेरा समाज सो रहा है।"

"जो कौम अपना इतिहास नहीं जानती, वह कौम कभी भी इतिहास नहीं बना सकती।"

"अपने भाग्य के बजाय अपनी मजबूती पर विश्वास करो।"

"मैं राजनीति में सुख भोगने नहीं बल्कि अपने सभी दबे-कुचले भाईयों को उनके अधिकार दिलाने आया हूँ।" "मनुवाद को जड़ से समाप्‍त करना मेरे जीवन का प्रथम लक्ष्‍य है।"

"जो धर्म जन्‍म से एक को श्रेष्‍ठ और दूसरे को नीच बनाए रखे, वह धर्म नहीं, गुलाम बनाए रखने का षड़यंत्र है।"

"राष्‍ट्रवाद तभी औचित्‍य ग्रहण कर सकता है, जब लोगों के बीच जाति, नरल या रंग का अन्‍तर भुलाकर
उसमें सामाजिक भ्रातृत्‍व को सर्वोच्‍च स्‍थान दिया जाये।"

"मैं तो जीवन भर कार्य कर चुका हूँ अब इसके लिए नौजवान आगे आए।"

"अच्छा दिखने के लिए मत जिओ बल्कि अच्छा बनने के लिए जिओ!" "जो झुक सकता है वह सारी दुनिया को झुका भी सकता है!"

"लोकतंत्र सरकार का महज एक रूप नहीं है।"

"एक इतिहासकार, सटीक, ईमानदार और निष्‍पक्ष होना चाहिए।"

"संविधान, यह एक मात्र वकीलों का दस्‍तावेज नहीं। यह जीवन का एक माध्‍यम है।"

"किसी का भी स्‍वाद बदला जा सकता है लेकिन जहर को अमृत में परिवर्तित नही किया जा सकता।"
"न्‍याय हमेशा समानता के विचार को पैदा करता है।"

"मन की स्‍वतंत्रता ही वास्‍तविक स्‍वतंत्रता है।"

"इस दुनिया में महान प्रयासों से प्राप्‍त किया गया को छोडकर और कुछ भी बहुमूल्‍य नहीं है।"

"ज्ञान व्‍‍यक्ति के जीवन का आधार हैं।"

"शिक्षा जितनी पुरूषों के लिए आवशयक है उतनी ही महिलाओं के लिए।"

"महात्‍मा आये और चले गये परन्‍तु अछुत, अछुत ही बने हुए हैं।"

"स्‍वतंत्रता का रहस्‍य, साहस है और साहस एक पार्टी में व्‍यक्तियों के संयोजन से पैदा होता है।"