Amitabh Bachchan

Amitabh Bachchan / अमिताभ बच्चन

Amitabh Bachchan Quotes / अमिताभ बच्चन अनमोल विचार

एक दिन ये चेहरे बदल जाते है दुनिया बदले या न बदले लेकिन कुछ ऐसे भी है काम जो हमे बताते है की कोई भी
काम बड़ा या छोटा नही होता है हमारा दिल बड़ा होना चाहिए

आप जीवित रहने के लिए क्या करते है और आपके जीने का उद्देश्य क्या है इन दोनों में बहुत फर्क है.

यदि आप में लगन, धैर्य, हिम्मत, है तो आप किसी भी विकट परिस्थिति में उसका सामना करते हुए
सफलतापूर्वक बाहर निकल कर आगे जा सकते है

मै इस बात में कभी यकीन नही करता हु की मै कभी भी सुपरस्टार रहा हु

मै जिन परिस्थितियों से होकर गुजरा हु उस परिस्थिति में मेरा शरीर
जिस प्रकार प्रतिक्रिया की है वह किसी रणक्षेत्र से कम नही है दुष्ट व्यक्ति का स्वाभाव हमेसा दुसरो के कार्य को बिगाड़ने का ही होता है जिस प्रकार एक वस्त्र काटने वाला
चूहा कभी भी अपने पेट भरने के लिए कपड़े नही काटता है वह तो सिर्फ केवल दुसरो को नुकसान ही चाहता है

मैंने कोई तकनीक का इस्तेमाल नही करता हु और न ही मैंने अभिनय का कोई विशेष प्रशिक्षण लिया हु
मै जो भी कार्य करता हु वो पूरे मेहनत के साथ ख़ुशी से करता हु

मैंने कभी महान होने के लिए काम नही किया, मैंने तो जो भी काम किया उसे बस सोच कर किया
जो भी करना है उसे अपने पूरे योग्यता के साथ करना है

ये कभी मत सोचना की जो तेज बोलते है वे शक्तिशाली ही हो, और जो धीमे बोलते हो वे कमजोर हो

हम अपने जीवन में जो चाहते है उसे चुनने के लिए मुक्त है लेकिन उसके परिणाम से कभी मुक्त नही हो सकते है मुझे कभी कभी इस बात से भी दुःख होता है की मेरे पास पूर्णरूप से निरोग एंव स्वस्थ शरीर नही है

यदि आप अपनी नजरे सूर्य पर रखेगे तो आपको परिछाहिया कभी भी नही दिखेगी

ऊच नीच को नही मानती है हमारे देश की भाषाए क्यूकी भारत की भाषाओ में कोई अक्षर कैपिटल या स्माल नही होते है

ऐसा ज्ञान की प्राप्ति जो झूठा, निराधार और गलत हो वो ज्यादा खतरनाक होता है
उससे अच्छा है की हम अज्ञानी, अशिक्षित या विद्याहीन ही रहे

हर कोई साधारण ही दीखता है लेकिन सबमे एक असाधारण प्रतिभा होती है
जरूरत है तो हमे उस प्रतिभा को अपने कौशल से निखारने की हमे स्वीकार करना होगा की हमारी उम्र भी समय के साथ बढ़ेगी लेकिन किसी को भी अपनी उम्र का बढना अच्छा नही लगता है

मै तो एक साधारण सा अभिनेता हु जो सिर्फ अपने काम से प्यार करता है
और मेरे उम्र और मेरी बाते तो सिर्फ मीडिया में होती है

हम सबके जीवन में एक ऐसा भी वक्त आता है
जिसमे हमे सिर्फ हमे ईमानदारी, स्थिरता, इज्जत और विश्वनीयता में रूचि रखते है

हम सभी के अंदर एक ऐसी अलौकिक शक्ति का भंडार होता है जो तभी बाहर आता है जब जिन्दगी हमारी इम्तिहान लेती है

सभी से इर्ष्या करने वाले, घृणा करने वाले, असंतोषी, क्रोधी, सदा संदेह करना और पराये सहारे के जीने वाले
मनुष्य हमेसा दुखी रहते है इसलिए जहा तक सम्भव हो इन दुर्गुणों को अपने अंदर कभी भी नही आने देना चाहिए नफरत का खुद का कोई वजूद नही होता है वह तो सिर्फ मोहब्बत की गैर मौजूदगी का नतीजा है

अपने कैरिएर को लेकर मै कभी भी आशस्वत नही रहा हु

जीवन में बहुत ऐसी चीजे भी होती है जिन्हें लगता है की मै उन्हें मिस कर दिया

उस समस्या का समाधान कभी भी नही हो सकता है जबतक हम उस मन: स्थिति से
उसके बारे में ही सोचते रहेगे और जिस मन: स्थिति से हमने उसे बनाया है

हमारी हर साँस हमे प्रतिक्षण शिक्षित करती है जीवन के लिए एक शानदार नजरिया – लोग हमारे बारे में क्या सोचेगे यदि हम यही सोचेगे तो फिर लोग क्या सोचेगे

अपनी आलोचना का हमेसा स्वागत करना चाहिए वरना पता कैसे चलेगा की हमारी बात लोगो तक पहुची है की नही

पाँच तत्व का कोड (code) है भगवान , जिससे यह ब्रह्माण्ड बना
भ + ग + व + आ + न = भूमि (धरती), गगन (आकाश), वायु (हवा), अग्नि (आग),नीर (पानी)

काश ऐसी भी हवा चले की कौन किसका है यह भी पता चले

बेवजह अच्छे बनो, वजह से बहुत बने फिरते रहते है Life is a blur when one is essaying different roles; it is so fulfilling.

No one is perfect, and criticism is always welcome and expected.

Don't let anyone make you believe the length of your skirt is a measure of your character.

My opening words to anybody I hire are, 'I'm an extremely vulnerable person.'

I'd like to believe that tomorrow is another challenge for me.
I'm sure there is lots more for me to do,
because there is lots and lots of stuff still to be explored. I don't spend much time looking back at what happened.
I do remember it, but I don't see any purpose of wanting to look back.

People are fed up with seeing the same thing over and over. They want a qualitative change.

Coming together should be considered something positive for people and communities.
When thoughts come together, that can be more positive than an individual thought.

People are fed up with seeing the same thing over and over. They want a qualitative change.

I am a not exactly a gadget freak and have the regular phones. But I keep multiple phones
because if there's a network issue in one, then I can use another one.

It's frightening to be facing an audience. There is always the fear of
what they think of you, what they are saying about you.

Everybody wants to live. But sometimes the body just gives up.