Gopal Singh Nepali

गोपाल सिंह नेपाली / Gopal Singh Nepali

गोपाल सिंह नेपाली / Gopal Singh Nepali

हिमालय ने पुकारा

शंकर की पुरी चीन ने सेना को उतारा
चालीस करोड़ों को हिमालय ने पुकारा।
हो जाए पराधीन नहीं गंगा की धारा
गंगा के किनारों को शिवालय ने पुकारा
हम भाई समझते जिसे दुनिया से उलझके,
वो घेर रहा आज हमें बैरी समझ के।

चोरी भी करे और करे बात गरज के
धोखे से लुट गया भाई-भाई का नारा।
बर्फों मे पिघलने को चला लाल सितारा।
चालीस करोड़ों को हिमालय ने पुकारा
ओ बात के बलवान अहिसा के पुजारी!
बातों से नही आज तेरी आन की बारी।

बैठा ही रहा तू तो गई लाज हमारी
खा जाये नहीं जंग कहीं खड्ग दुधारा।
है भूल हमारी हम छुरा क्यों न निकालें
तिब्बत को अगर चीन के करते न हवाले
पड़ते न हिमालय के शिखर चोर के पाले
समझा न सितारों ने घटाओं का इशारा।
जागो कि बचाना है तुम्हें मानसरोवर
रखना है छिपा कर तुम्हें कैलाश मनोहर,
ले ले ना हमारी वो अमरनाथ धरोहर।

रह जाय हिमाचल तो अचल भाग तुम्हारा
कह दो कि हिमालय तो क्या पत्थर भी न देंगे
लद्दाख की क्या बात है, बंजर भी न देंगे,
आसाम हमारा है रे मरकर भी न देंगे।
आजाद जो रहना है तो करो घर में गुजारा।
भारत से तुम्हें प्यार तो सेना को हटा लो,
भूटान की सरहद पे बुरी दृष्टि न डालो
है लूटना सिक्किम को तो पीकिंग को सम्हालो,
है चीन का लद्दाख, तो बीजिंग है हमारा।

हिमालय और हम

गिरिराज हिमालय से भारत का कुछ ऐसा ही नाता है ।

(1)
इतनी ऊँची इसकी चोटी कि सकल धरती का ताज यही ।
पर्वत-पहाड़ से भरी धरा पर केवल पर्वतराज यही ।।
अंबर में सिर, पाताल चरण
मन इसका गंगा का बचपन
तन वरण-वरण मुख निरावरण
इसकी छाया में जो भी है, वह मस्‍तक नहीं झुकाता है ।
ग‍िरिराज हिमालय से भारत का कुछ ऐसा ही नाता है ।।

(2)

अरूणोदय की पहली लाली इसको ही चूम निखर जाती ।
फिर संध्‍या की अंतिम लाली इस पर ही झूम बिखर जाती ।।
इन शिखरों की माया ऐसी
जैसे प्रभात, संध्‍या वैसी
अमरों को फिर चिंता कैसी ?
इस धरती का हर लाल खुशी से उदय-अस्‍त अपनाता है ।
गिरिराज हिमालय से भारत का कुछ ऐसा ही नाता है ।।

(3)

हर संध्‍या को इसकी छाया सागर-सी लंबी होती है ।
हर सुबह वही फिर गंगा की चादर-सी लंबी होती है ।।
इसकी छाया में रंग गहरा
है देश हरा, प्रदेश हरा
हर मौसम है, संदेश भरा
इसका पद-तल छूने वाला वेदों की गाथा गाता है ।
गिरिराज हिमालय से भारत का कुछ ऐसा ही नाता है ।।

(4)

जैसा यह अटल, अडिग-अविचल, वैसे ही हैं भारतवासी ।
है अमर हिमालय धरती पर, तो भारतवासी अविनाशी ।।
कोई क्‍या हमको ललकारे
हम कभी न हिंसा से हारे
दु:ख देकर हमको क्‍या मारे
गंगा का जल जो भी पी ले, वह दु:ख में भी मुसकाता है ।
गिरिराज हिमालय से भारत का कुछ ऐसा ही नाता है ।।

(5)

टकराते हैं इससे बादल, तो खुद पानी हो जाते हैं ।
तूफ़ान चले आते हैं, तो ठोकर खाकर सो जाते हैं ।
जब-जब जनता को विपदा दी
तब-तब निकले लाखों गाँधी
तलवारों-सी टूटी आँधी
इसकी छाया में तूफ़ान, चिरागों से शरमाता है।
गिरिराज, हिमालय से भारत का कुछ ऐसा ही नाता है ।

यह दिया बुझे नहीं

घोर अंधकार हो,
चल रही बयार हो,
आज द्वार–द्वार पर यह दिया बुझे नहीं
यह निशीथ का दिया ला रहा विहान है ।

शक्ति का दिया हुआ,
शक्ति को दिया हुआ,
भक्ति से दिया हुआ,
यह स्वतंत्रता–दिया,
रूक रही न नाव हो
जोर का बहाव हो,
आज गंग–धार पर यह दिया बुझे नहीं,
यह स्वदेश का दिया प्राण के समान है ।

यह अतीत कल्पना,
यह विनीत प्रार्थना,
यह पुनीत भावना,
यह अनंत साधना,
शांति हो, अशांति हो,
युद्ध¸ संधि¸ क्रांति हो,
तीर पर, कछार पर, यह दिया बुझे नहीं,
देश पर, समाज पर, ज्योति का वितान है ।


तीन–चार फूल है,
आस–पास धूल है,
बांस है –बबूल है,
घास के दुकूल है,
वायु भी हिलोर दे,
फूंक दे¸ चकोर दे,
कब्र पर मजार पर, यह दिया बुझे नहीं,
यह किसी शहीद का पुण्य–प्राण दान है।

झूम–झूम बदलियाँ
चूम–चूम बिजलियाँ
आंधिया उठा रहीं
हलचलें मचा रहीं
लड़ रहा स्वदेश हो,
यातना विशेष हो,
क्षुद्र जीत–हार पर¸ यह दिया बुझे नहीं,
यह स्वतंत्र भावना का स्वतंत्र गान है ।

उस पार

उस पार कहीं बिजली चमकी होगी
जो झलक उठा है मेरा भी आँगन ।

उन मेघों में जीवन उमड़ा होगा
उन झोंकों में यौवन घुमड़ा होगा
उन बूँदों में तूफ़ान उठा होगा
कुछ बनने का सामान जुटा होगा
         उस पार कहीं बिजली चमकी होगी
         जो झलक उठा है मेरा भी आँगन ।

तप रही धरा यह प्यासी भी होगी
फिर चारों ओर उदासी भी होगी
प्यासे जग ने माँगा होगा पानी
करता होगा सावन आनाकानी
         उस ओर कहीं छाए होंगे बादल
         जो भर-भर आए मेरे भी लोचन ।

मैं नई-नई कलियों में खिलता हूँ
सिरहन बनकर पत्तों में हिलता हूँ
परिमल बनकर झोंकों में मिलता हूँ
झोंका बनकर झोंकों में मिलता हूँ
         उस झुरमुट में बोली होगी कोयल
         जो झूम उठा है मेरा भी मधुबन ।

मैं उठी लहर की भरी जवानी हूँ
मैं मिट जाने की नई कहानी हूँ
मेरा स्वर गूँजा है तूफ़ानों में
मेरा जीवन आज़ाद तरानों में
         ऊँचे स्वर में गरजा होगा सागर
         खुल गए भँवर में लहरों के बंधन ।

मैं गाता हूँ जीवन की सुंदरता
यौवन का यश भी मैं गाया करता
मधु बरसाती मेरी वाणी-वीणा
बाँटा करती समता-ममता-करुणा
         पर आज कहीं कोई रोया होगा
         जो करती वीणा क्रंदन ही क्रंदन ।

सरिता

यह लघु सरिता का बहता जल
कितना शीतल¸ कितना निर्मल¸

हिमगिरि के हिम से निकल–निकल¸
यह विमल दूध–सा हिम का जल¸
कर–कर निनाद कल–कल¸ छल–छल
बहता आता नीचे पल पल

तन का चंचल मन का विह्वल।
यह लघु सरिता का बहता जल।।

निर्मल जल की यह तेज़ धार
करके कितनी श्रृंखला पार
बहती रहती है लगातार
गिरती उठती है बार बार

रखता है तन में उतना बल
यह लघु सरिता का बहता जल।।


एकांत प्रांत निर्जन निर्जन
यह वसुधा के हिमगिरि का वन
रहता मंजुल मुखरित क्षण क्षण
लगता जैसे नंदन कानन

करता है जंगल में मंगल
यह लघु सरित का बहता जल।।

ऊँचे शिखरों से उतर–उतर¸
गिर–गिर गिरि की चट्टानों पर¸
कंकड़–कंकड़ पैदल चलकर¸
दिन–भर¸ रजनी–भर¸ जीवन–भर¸

धोता वसुधा का अन्तस्तल।
यह लघु सरिता का बहता जल।।

मिलता है उसको जब पथ पर
पथ रोके खड़ा कठिन पत्थर
आकुल आतुर दुख से कातर
सिर पटक पटक कर रो रो कर

करता है कितना कोलाहल
यह लघु सरित का बहता जल।।

हिम के पत्थर वे पिघल–पिघल¸
बन गये धरा का वारि विमल¸
सुख पाता जिससे पथिक विकल¸
पी–पीकर अंजलि भर मृदु जल¸

नित जल कर भी कितना शीतल।
यह लघु सरिता का बहता जल।।

कितना कोमल¸ कितना वत्सल¸
रे! जननी का वह अन्तस्तल¸
जिसका यह शीतल करूणा जल¸
बहता रहता युग–युग अविरल¸

गंगा¸ यमुना¸ सरयू निर्मल
यह लघु सरिता का बहता जल।।

नवीन कल्पना करो

निज राष्ट्र के शरीर के सिंगार के लिए
तुम कल्पना करो, नवीन कल्पना करो,
तुम कल्पना करो।
 
अब देश है स्वतंत्र, मेदिनी स्वतंत्र है
मधुमास है स्वतंत्र, चाँदनी स्वतंत्र है
हर दीप है स्वतंत्र, रोशनी स्वतंत्र है
अब शक्ति की ज्वलंत दामिनी स्वतंत्र है

लेकर अनंत शक्तियाँ सद्य समृद्धि की-
तुम कामना करो, किशोर कामना करो,
तुम कल्पना करो।

तन की स्वतंत्रता चरित्र का निखार है
मन की स्वतंत्रता विचार की बहार है
घर की स्वतंत्रता समाज का सिंगार है
पर देश की स्वतंत्रता अमर पुकार है

टूटे कभी न तार यह अमर पुकार का-
तुम साधना करो, अनंत साधना करो,
तुम कल्पना करो।

हम थे अभी-अभी गुलाम, यह न भूलना
करना पड़ा हमें सलाम, यह न भूलना
रोते फिरे उमर तमाम, यह न भूलना
था फूट का मिला इनाम, वह न भूलना

बीती गुलामियाँ, न लौट आएँ फिर कभी
तुम भावना करो, स्वतंत्र भावना करो
तुम कल्पना करो।

प्रार्थना बनी रही

रोटियाँ ग़रीब की प्रार्थना बनी रही
एक ही तो प्रश्न है रोटियों की पीर का
पर उसे भी आसरा आँसुओं के नीर का
राज है ग़रीब का ताज दानवीर का
तख़्त भी पलट गया कामना गई नहीं
रोटियाँ ग़रीब की प्रार्थना बनी रही

चूम कर जिन्हें सदा क्राँतियाँ गुज़र गईं
गोद में लिये जिन्हें आँधियाँ बिखर गईं
पूछता ग़रीब वह रोटियाँ किधर गई
देश भी तो बँट गया वेदना बँटी नहीं
रोटियाँ ग़रीब की प्रार्थना बनी रही

गरीब का सलाम ले

कर्णधार तू बना तो हाथ में लगाम ले
क्रांति को सफल बना नसीब का न नाम ले
भेद सर उठा रहा, मनुष्य को मिटा रहा,
गिर रहा समाज , आज बाजुओं में थाम ले
त्याग का न दाम ले,
दे बदल नसीब तो गरीब का सलाम ले!

लोग आस में खड़े गली गली के मोड़ पर
एक का विचार छोड़, दृष्टि दे करोड़ पर
अन्यथा प्रतीति बढ़ रही है तोड़-फोड़ पर,
न्याय भी हमें मिले कि नीति भी नहीं हिले
प्यार है मनुष्य से तो रौशनी से काम ले,
त्याग का न दाम ले,
दे बदल नसीब तो गरीब का सलाम ले!

आँख बन के फूटती न आँसुओं की फुलझड़ी
टूटती कहाँ से फिर गुलामियों की हथकड़ी,
साँस तोड़ती महल से दूर-दूर झोंपड़ी,
किंतु अब स्वराज है, प्रजा के सिर पे ताज है
छाँव दे जहान को, तू अपने सिर पे घाम ले,
त्याग का न दाम ले,
दे बदल नसीब तो गरीब का सलाम ले!

यह स्वतंत्रता नहीं, कि एक तो अमीर हो,
दूसरा मनुष्य तो रहे मगर फ़कीर हो,
न्याय हो तो आर-पार एक ही लकीर हो,
वर्ग की तनातनी, न मानती है चाँदनी,
चाँदनी लिए चला तो घूम हर मुकाम ले,
त्याग का न दाम ले,
दे बदल नसीब तो गरीब का सलाम ले!

कर भला गरीब का तो डर न साम्यवाद से,
नाश है प्रयोगवाद का प्रयोगवाद से,
तू स्वतंत्र देश को बचा सदा विवाद से,
यों नई दिशा दिखा, कि दीप की हँसे शिखा,
साम्यवाद भी मिले, तो चूम ग्राम-ग्राम ले,
त्याग का न दाम ले,
दे बदल नसीब तो गरीब का सलाम ले!

जी रहे जहान में, खान-पान चाहिए,
नित निवास के लिए हमें मकान चाहिए,
चाहिए हज़ार सुख मगर न दान चाहिए,
फूल साम्य का खिला, कुटीर से महल मिला,
घर बसा करोड़ का, करोड़ का प्रणाम ले--
त्याग का न दाम ले,
दे बदल नसीब तो गरीब का सलाम ले!

राम राज्य है तो मुफ़्त में मिला करे दवा,
मुफ़्त तो पढ़ा करें कि जैसे मुफ्त है हवा,
न्याय मुफ़्त में मिले, बिहार हो कि मालवा,
यों हमें उबार तो, समाज को सिंगार तो,
कोटि-कोटि के हृदय में कर सदैव धाम ले,
त्याग का न दाम ले,
दे बदल नसीब तो गरीब का सलाम ले!

शक्ति है मिली तो स्वाद-दीन हीन को मिले,
वह मिले कुली-कुली को जो कुलीन को मिले,
सूर्य व्योम को मिले, किरन ज़मीन को मिले,
शक्ति यों पसार दे, व्यक्ति दुःख बिसार दे,
प्यार का हज़ार बार प्यार ही इनाम ले,
त्याग का न दाम ले,
दे बदल नसीब तो गरीब का सलाम ले!

ज़िन्दगी में ज़िन्दगी प्रताप की उतार ले,
बाजुओं में बल अमर हम्मीर का उधार ले,
बुद्धि ले तो अपने ही शिवाजी से उधार ले,
कर्णधार है तो चल, दरिद्र की दिशा बदल,
देश को अमर बना के उम्र कर तमाम ले,
त्याग का न दाम ले,
दे बदल नसीब तो गरीब का सलाम ले!

यह न कर सके अगर तो तख़्त ताज छोड़ दे,
और के लिए जगह बना, मिज़ाज छोड़ दे,
छोड़ना है कल तुझे हठीले आज छोड़ दे,
आके मिल समाज में कि भाग ले स्वराज में
शांति भोग, किंतु बागडोर से विराम ले,
त्याग का न दाम ले,
दे बदल नसीब तो गरीब का सलाम ले!

रहनुमा बने बिना भी उम्र बीत जाएगी,
ताज-तख़्त के बिना भी प्रीति गीत गाएगी,
कोकिला कहीं रहे, वसंत गीत गाएगी,
रास्ता दे भीड़ को, सँवार अपने नीड़ को,
पीपलों की छाँव में, तू बैठ राम-नाम ले--
त्याग का न दाम ले,
दे बदल नसीब तो गरीब का सलाम ले!

मेरा धन है स्वाधीन क़लम

राजा बैठे सिंहासन पर, यह ताजों पर आसीन क़लम
मेरा धन है स्वाधीन क़लम
जिसने तलवार शिवा को दी
रोशनी उधार दिवा को दी
पतवार थमा दी लहरों को
खंजर की धार हवा को दी
अग-जग के उसी विधाता ने, कर दी मेरे आधीन क़लम
मेरा धन है स्वाधीन क़लम

रस-गंगा लहरा देती है
मस्ती-ध्वज फहरा देती है
चालीस करोड़ों की भोली
किस्मत पर पहरा देती है
संग्राम-क्रांति का बिगुल यही है, यही प्यार की बीन क़लम
मेरा धन है स्वाधीन क़लम

कोई जनता को क्या लूटे
कोई दुखियों पर क्या टूटे
कोई भी लाख प्रचार करे
सच्चा बनकर झूठे-झूठे
अनमोल सत्य का रत्‍नहार, लाती चोरों से छीन क़लम
मेरा धन है स्वाधीन क़लम

बस मेरे पास हृदय-भर है
यह भी जग को न्योछावर है
लिखता हूँ तो मेरे आगे
सारा ब्रह्मांड विषय-भर है
रँगती चलती संसार-पटी, यह सपनों की रंगीन क़लम
मेरा धन है स्वाधीन कलम

लिखता हूँ अपनी मर्ज़ी से
बचता हूँ कैंची-दर्ज़ी से
आदत न रही कुछ लिखने की
निंदा-वंदन खुदगर्ज़ी से
कोई छेड़े तो तन जाती, बन जाती है संगीन क़लम
मेरा धन है स्वाधीन क़लम

तुझ-सा लहरों में बह लेता
तो मैं भी सत्ता गह लेता
ईमान बेचता चलता तो
मैं भी महलों में रह लेता
हर दिल पर झुकती चली मगर, आँसू वाली नमकीन क़लम
मेरा धन है स्वाधीन क़लम