Gangadhar Tilak

बाल गंगाधर तिलक / Bal Gangadhar Tilak

बाल गंगाधर तिलक के प्रसिद्द विचार / Bal Gangadhar Tilak Quotes

स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है, और मैं इसे लेकर रहूँगा !

प्रगति स्वतंत्रता में निहित है। बिना स्वशासन के न औद्योगिक विकास संभव है ,
न ही राष्ट्र के लिए शैक्षिक योजनाओं की कोई उपयोगिता है…

The step beyond is to serve humanity and the next step is to serve God,

Our nation is like a tree of which the original trunk is swarajya and the branches are swadeshi and boycott.

If we trace the history of any nation backwards into the past,
we come at last to a period of myths and traditions which eventually fade away into impenetrable darkness. हो सकता है ये भगवान की मर्जी हो कि मैं जिस वजह का प्रतिनिधित्व करता हूँ
उसे मेरे आजाद रहने से ज्यादा मेरे पीड़ा में होने से अधिक लाभ मिले।

ये सच है कि बारिश की कमी के कारण अकाल पड़ता है
लेकिन ये भी सच है कि भारत के लोगों में इस बुराई से लड़ने की शक्ति नहीं है।

It may be providence's will that the cause I represent may prosper more by my suffering than by my remaining free.

The most practical teaching of the Gita, and one for which it is of abiding interest and value to the men of the world with whom life is a series of struggles, is not to give way to any morbid sentimentality when duty demands sternness and the boldness to face terrible things. भारत का तब तक खून बहाया जा रहा है जब तक की बस कंकाल ना शेष रह जाये।

भूविज्ञानी पृथ्वी का इतिहास वहां से उठाते हैं जहाँ से पुरातत्वविद् इसे छोड़ देते हैं , और उसे और भी पुरातनता में ले जाते हैं।

After all, our Killers are our ...Brothers!!??

The geologist takes up the history of the earth at the point where the archaeologist leaves it,
and carries it further back into remote antiquity. धर्म और व्यावहारिक जीवन अलग नहीं हैं। सन्यास लेना जीवन का परित्याग करना नहीं है। असली भावना सिर्फ अपने लिए काम करने की बजाये देश को अपना परिवार बना मिलजुल कर काम करना है। इसके बाद का कदम मानवता की सेवा करना है और अगला कदम ईश्वर की सेवा करना है।

Swaraj is my birthright, and I shall have it!

If the history of any nation is drawn back into the past,
we finally reached a period of myths and traditions that eventually fade into यदि भगवान छुआछूत को मानता है तो मैं उसे भगवान नहीं कहूँगा।

Poverty in India is due entirely to this rule.

In India there was only one natural aggressive nationalist and he was Tilak.

India is being bled until only the skeletal remains यदि हम किसी भी देश के इतिहास को अतीत में जाएं ,
तो हम अंत में मिथकों और परम्पराओं के काल में पहुंच जाते हैं जो आखिरकार अभेद्य अन्धकार में खो जाता है।

The compilation of hymns into Sanhitas also appears to be a work of the early part of this period.

It may be the will of providence that the cause I represent can prosper more by my suffering for my remaining free. भारत की गरीबी पूरी तरह से वर्तमान शासन की वजह से है।

impenetrable darkness.

Freedom is my birthright. I must have it.

It is true that the lack of rain causes hunger,
but it is also true that people in India do not have the strength to fight evil. देश की स्वतंत्रता के लिए प्रयत्न करना सामाजिक सुधारों से अधिक महत्वपूर्ण है.

Religion and practical life are not different. To take sanyas (renunciation) is not to abandon life.
The real spirit is to make the country, your family, work together instead of working only for your own.